मुसाफिर हु यारो
न घर है न ठिकाना
मुसाफिर हु यारो
न घर है न ठिकाना
मुझे चलते जाना है
बस चलते जाना ।।।